Breaking
Thu. May 23rd, 2024
Shakib Al Hasan

हाल ही में क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 का समापन हुआ है और अब इसी बीच एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। आपको बता दें बांग्लादेश क्रिकेट टीम के कप्तान शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) को आईसीसी पुरुष क्रिकेट वर्ल्ड कप 2023 में निराशाजनक अभियान के बाद देश लौटने पर एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना का सामना करना पड़ा।

विश्व कप के प्रदर्शन की निराशा तब चरम पर पहुंच गई जब बांग्लादेश लौटने पर फैंस ने शाकिब अल हसन का स्वागत किया। वायरल वीडियो में फैंस को ‘मारो, मारो’ कहते हुए देखा जा सकता है। कुछ लोगों ने तो उनका कॉलर भी पकड़ लिया और स्थिति तब बिगड़ गई जब सिक्योरिटी के हस्तक्षेप से पहले अनियंत्रित भीड़ ने उन्हें धक्का देकर जमीन पर गिरा दिया।

हिल गए कप्तान Shakib Al Hasan

सुरक्षा गार्डों ने शाकिब को भीड़ से बचाने के लिए तेजी से कार्रवाई की, लेकिन इस घटना ने कप्तान को हिलाकर रख दिया। यह प्रकरण खेल में निराशा और खिलाड़ियों की व्यक्तिगत सुरक्षा के बीच की रेखा पर सवाल उठाता है। यह घटना फैंस की तीव्र भावनाओं के बीच खिलाड़ियों की भलाई के बारे में चिंता पैदा करती है। बांग्लादेश क्रिकेट के दिग्गज खिलाड़ी शाकिब अल हसन (Shakib Al Hasan) इस टकराव से काफी प्रभावित नज़र आये।

विश्व कप से पहले तूफान तब शुरू हुआ, जब शाकिब अल हसन तमीम इकबाल के साथ सार्वजनिक रूप से उलझ गए। विवाद तब सामने आया जब तमीम को वर्ल्ड कप टीम से बाहर कर दिया गया। शाकिब ने सार्वजनिक रूप से उन्हें बचकाना करार दिया और टीम के प्रति उनकी प्रतिबद्धता पर सवाल उठाए।

शाकिब ने कहा, “रोहित शर्मा जैसे व्यक्ति ने नंबर 7 से ओपनर तक अपना करियर बनाया, 10,000 से अधिक रन बनाए। अगर वह कभी-कभी नंबर 3 या 4 पर बल्लेबाजी करें, तो क्या यह एक बड़ी समस्या होगी? यह बिल्कुल बचकाना है। यह मेरा बल्ला है, मैं खेलूंगा कोई और नहीं खेल सकता। एक खिलाड़ी को टीम के लिए किसी भी स्थान पर बल्लेबाजी करने के लिए तैयार रहना चाहिए। अगर आपने 100 या 200 बनाए हैं और टीम हार जाती है तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। आप व्यक्तिगत उपलब्धि के साथ क्या कर सकते हैं? क्या आप अपना नाम कमाना चाहते हैं?”

तमीम के साथ शाकिब की जुबानी जंग का असर टूर्नामेंट शुरू होने से पहले ही टीम पर पड़ा। अफगानिस्तान पर 6 विकेट की शानदार जीत के साथ शुरुआत करने के बावजूद, बांग्लादेश की हार का सिलसिला विनाशकारी रहा। टीम को कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ा और सबसे निचले पायदान पर रहने का जोखिम उठाना पड़ा।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *