Breaking
Sun. Apr 21st, 2024
Global NCAP

ग्लोबल एनसीएपी (Global NCAP) के कार्यकारी अध्यक्ष डेविड वार्ड ने कहा कि भारत को वो गलती नहीं करनी चाहिए जो अमेरिका ने अधिक एसयूवी की बिक्री को बढ़ावा देकर की है। उन्होंने कहा ये पैदल यात्रियों के लिए गंभीर जोखिम पैदा करते हैं। ऐसे वाहनों के बोनट या हुड की ऊंचाई अन्य वाहनों की तुलना में ज्यादा होती है और मृत्यु का जोखिम ज्यादा होता है, क्योंकि दुर्घटना की स्थिति में बोनट शरीर के ऊपरी हिस्से से टकराता है।

वार्ड ने इंस्टीट्यूट ऑफ रोड ट्रैफिक एजुकेशन एवं UNESCAP और UNECE द्वारा आयोजित ग्लोबल रोड सेफ्टी इनिशिएटिव मीट में बोलते हुए कहा, “हर सेगमेंट में बड़ी और भारी एसयूवी बेचने के लिए कार उद्योग का निरंतर दबाव सड़क सुरक्षा के लिए बुरी खबर है और ख़ास रूप से छोटे, अधिक कुशल वाहन चलाने वालों और कमजोर सड़क उपयोगकर्ताओं के लिए भारत और अन्य देशों में एसयूवी की बढ़ती वृद्धि और मांग एक प्रमुख सड़क सुरक्षा और पर्यावरण चुनौती है। सरकारों को इन बड़े वाहनों की बिक्री को हतोत्साहित करना चाहिए। हाल के वर्षों में कारें भारी, लंबी और अधिक शक्तिशाली हो गई हैं।”

Global NCAP प्रमुख ने बताया 5 साल में भारत में एसयूवी की बिक्री हुई दोगुनी

भारत में एसयूवी की बिक्री पिछले 5 सालों में करीब दोगुनी हो चुकी है और अब ये वार्षिक यात्री कार बिक्री का लगभग आधा हिस्सा बनाती हैं। वार्ड ने बताया कि भारत, जिसने वाहन सुरक्षा में सुधार के लिए कई कदम उठाए हैं, उसे अमेरिका के उदाहरण का अनुसरण नहीं करना चाहिए। पश्चिम के मुकाबले भारत में कारों के बाहर अधिक लोग मरते हैं। 2022 में कुल 1.68 लाख सड़क मौतों में से केवल दोपहिया सवारों और पैदल यात्रियों की मौत एक लाख से अधिक थी।

वार्ड ने संयुक्त राज्य अमेरिका में इंश्योरेंस इंस्टीट्यूट फॉर हाईवे सेफ्टी के एक हालिया अध्ययन के निष्कर्षों का हवाला दिया, जहां लगभग 80% कारें एसयूवी हैं। 18,000 पैदल यात्रियों की दुर्घटनाओं का अध्ययन करते हुए, गैर-लाभकारी संस्था ने पाया है कि 40 इंच से ज्यादा की बोनट ऊंचाई वाली एसयूवी और पिक-अप में पैदल चलने वालों की मृत्यु का कारण लगभग 45% अधिक है। यह भी पाया गया कि 30 से 40 इंच के बीच बोनट की ऊंचाई वाले वाहनों में कुंद या अधिक ऊर्ध्वाधर सामने का हिस्सा पैदल चलने वालों के लिए जोखिम बढ़ाता है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *