Breaking
Fri. Apr 19th, 2024
Uttarkashi

Uttarkashi : पिछले 12 दिनों से फंसे हुए 41 श्रमिकों को बाहर निकालने के लिए बचाव अभियान गुरुवार को भी जारी रहा। दिल्ली से वेल्डिंग विशेषज्ञ सिल्कयारा सुरंग पहुंच चुके हैं। मजदूर 12 नवंबर से फंसे हुए हैं, जब सिल्कयारा से बरकोट तक निर्माणाधीन सुरंग सिल्कयारा की तरफ 60 मीटर की दूरी में मलबा गिरने के कारण अवरुद्ध हो गई थी। अधिकारियों के मुताबिक, बचावकर्मियों ने मलबे को काफी हद तक तोड़ दिया है और लगभग 12 मीटर पाइपलाइन बिछाने का काम बाकी है।

एक वेल्डर राधे रमन दुबे ने कहा कि उन्हें मलबे में डाले जा रहे पाइपों के हल्के स्टील के तार को वेल्ड करने के लिए साइट पर लाया गया था। बचाव योजना के अनुसार फंसे हुए लोगों को 900 मिमी पाइप के माध्यम से बाहर निकाला जाएगा, जिन्हें लगभग 60 मीटर की दूरी तक मलबे के अंदर धकेला जाएगा ताकि श्रमिक उनके माध्यम से रेंगकर सुरक्षित रूप से बाहर आ सकें।

उन्होंने कहा, “हम यहां सुरंग के अंदर पाइप को वेल्ड करने के लिए आये हैं। इसके लिए पांच वेल्डर यहां हैं…हम इसे वेल्डिंग मशीनों की मदद से करेंगे।” माइल्ड स्टील वेल्डिंग तार एक प्रकार का वेल्डिंग तार है जो कम-मिश्र धातु और उच्च शक्ति वाले स्टील से बना होता है। हल्के स्टील वेल्डिंग तार का इस्तेमाल छत और साइडिंग जैसी पतली धातु की चादरों के लिए किया जाता है। इसका इस्तेमाल हल्के औद्योगिक अनुप्रयोगों के लिए भी किया जाता है, जैसे धातु पाइप के टुकड़ों को जोड़ना।

Uttarkashi : CIMFR रूड़की से तीन लोग साइट पर मौजूद

गुरुवार सुबह घटनास्थल पर पहुंचे रूड़की के मुख्य वैज्ञानिक और सुरंग विशेषज्ञ आरडी द्विवेदी ने कहा कि फंसे हुए मजदूरों को बाहर निकालने के लिए जरूरत पड़ने पर टीम अतिरिक्त इनपुट देगी। उन्होंने कहा, “CIMFR रूड़की से कुल तीन लोग साइट पर मौजूद हैं। हम सुरंग बनाने के विशेषज्ञ हैं और हम यहां चल रहे बचाव अभियान के बारे में अपडेट लेंगे। अगर ज़रूरत पड़ी तो हम अतिरिक्त इनपुट देंगे।”

प्रधानमंत्री कार्यालय के पूर्व सलाहकार भास्कर खुल्बे भी घटनास्थल पर पहुंचे। राज्य सरकार के अधिकारी के मुताबिक, बचाव अभियान अंतिम चरण में है, क्योंकि आज फंसे हुए श्रमिकों को बाहर निकाले जाने की संभावना है। उत्तराखंड सीएमओ ने कहा, ”सिल्कयारा सुरंग के अंदर फंसे श्रमिकों को बचाने की तैयारी अंतिम चरण में है और सीएम पुष्कर सिंह धामी खुद उत्तरकाशी में मौजूद हैं।”

आधी रात तक बचाव दल ने कहा था कि लगभग 10 मीटर मलबे ने उन्हें फंसे हुए श्रमिकों से अलग कर रखा है। बचाव दल के अनुसार, ऑपरेशन में फंसे हुए श्रमिकों को बाहर निकालने के लिए मलबे के बीच चौड़े पाइप डालने के लिए ड्रिलिंग शामिल थी। बरमा मशीन जो एक घंटे में लगभग 3 मीटर मलबे को ड्रिल करती है, पहले एक धातु बाधा से टकरा गई थी। चिकित्सा उपकरण भी साइट पर मौजूद हैं।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *