Breaking
Mon. Apr 15th, 2024
Air Pollution

Air Pollution : राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के कई इलाकों में दिवाली उत्सव के दौरान पटाखों पर प्रतिबंध का उल्लंघन होते देखा गया। इसके बाद जब दिल्ली में लोगों की नींद खुली तो वातावरण में घनी धुंध छाई हुई थी। रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) 420 था, जो ‘खतरनाक’ स्तर से काफी ऊपर था। लेकिन देश के दो अन्य शहरों कोलकाता और मुंबई में भी स्थिति खराब हो गई है, और वे दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की लिस्ट में शीर्ष 10 में क्रमशः चौथे और आठवें स्थान पर हैं।

पश्चिम बंगाल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (WBPCB) के मुताबिक, कोलकाता के अधिकांश हिस्सों में AQI 250 के स्तर को पार कर गया। सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी एंड वेदर फोरकास्टिंग एंड रिसर्च (SAFAR) के अनुसार, मुंबई में AQI 234 अंक पर ‘खराब’ श्रेणी में चला गया। 0 से 100 तक AQI को अच्छा माना जाता है, जबकि 100 से 200 तक मध्यम, 200 से 300 तक खराब, 300 से 400 तक बहुत खराब और 400 से 500 या इससे ऊपर AQI गंभीर माना जाता है।

Air Pollution : सुप्रीम कोर्ट का फैसला

सुप्रीम कोर्ट ने 7 नवंबर को बेरियम और अन्य प्रतिबंधित रसायनों से बने पटाखों पर प्रतिबंध लगाने का आदेश जारी किया था। प्रतिबंध हर राज्य के लिए अनिवार्य था, न कि केवल दिल्ली-एनसीआर क्षेत्र के लिए। पीठ ने फैसला सुनाया, “उत्सव तभी मनाया जा सकता है जब आपके पास जो है उसे साझा करें। पर्यावरण को प्रदूषित करके नहीं। अगर आप ऐसा करते हैं, तो आप स्वार्थी बन रहे हैं। आजकल बच्चे ऐसा नहीं करते, लेकिन बुजुर्ग अधिक पटाखे जला रहे हैं।”

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बावजूद रुक-रुक कर पटाखे चलने की आवाजें सुनाई देती रही, जिसकी तीव्रता रात होते-होते बढ़ गई। पटाखों पर किसी न किसी तरह से प्रतिबंध तो लगाए जा रहे हैं, लेकिन उन प्रतिबंधों का पालन कम ही हो पाता है। कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी ने कहा, “यह विडंबनापूर्ण है कि जो देश लॉकडाउन के लिए चार घंटे के नोटिस पर बंद कर सकता है, वह सुप्रीम कोर्ट के आदेश को नियंत्रित या लागू नहीं कर सकता है…जाहिर है, इच्छाशक्ति की कमी थी और कोई प्रवर्तन नहीं था। यह बहुत गंभीर मुद्दा है… सुप्रीम कोर्ट को सभी राज्यों को बुलाकर पूछना चाहिए कि इस आदेश को लागू क्यों नहीं किया गया।”

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *